बारह मुखी रुद्राक्ष के फायदे | 12 Mukhi Rudraksha Benefits in Hindi

12 Mukhi Rudraksha Benefits:बारह मुखी रुद्राक्ष को आदित्य स्वरुप माना गया है। यह सूर्य के समान तेजपुंज है। १२ ज्योतिर्लिंग का स्वरुप और उसका आशीर्वाद है १२ मुखी रुद्राक्ष । इसे शिव भक्त को धारण करना चाहिए। यह नेपाल में ही विशेष पाया जाता है। इस रुद्राक्ष को केवल गले में ही धारण करते है। इसे धारण करने पर चोर तथा अग्नि का भय नहीं होता। इससे दारिद्रय नष्ट होता है। अनेक व्याधियों से मुक्ति मिलती है। अपघात या विषैले जानवर तथा जंगली प्राणियों से धारणकर्ता का संरक्षक होता है। विश्व के अंधकार को दूर रखने वाले भगवान् सूर्य इसके स्वामी है।

बारह मुखी नेपाली रुद्राक्ष में द्वादस आदित्य और भगवान विष्णु की शक्ति समाहित होती है। इससे अपार सकारात्मक किरणें निकलती हैं जो नकारात्मकता का नाश करती हैं। जिस प्रकार सूर्य का प्रकाश चारो और चमकता है उसी तरह यह व्यक्ति को जीवन के सभी क्षेत्रों में चमकाता है। यह पहनने वाले को उसके करियर और जीवन में नई ऊंचाइयों पर ले जाता है।

भगवान सूर्य संसार को चलाने वाले देवता हैं। सम्पूर्ण पृथ्वी सूर्य भगवान की कृपा पर निर्भर है, पृथ्वी के सभी प्राणियों के प्राण-रक्षक सूर्य भगवान हैं। जिस तरह सूर्य का प्रकाश सारे संसार को अपनी रोशनी देकर सारे संसार को ज्योर्तिमय बना देता है ठीक उसी तरह से 12 मुखी रुद्राक्ष भी मनुष्य को उन्नति का रास्ता दिखाकर उसका जीवन उन्‍नतशील बना देता है।

बारह मुखी रुद्राक्ष कैसा होता है(how to identify 12 mukhi rudraksha)

बारह मुखी रुद्राक्ष में १२ धारियाँ बनी होती है।इन धारियों का आकार छोटा बड़ा हो सकता है। यह आकार में यह गोल अंडाकार होता है। नेपाल का १२ मुखी रुद्राक्ष श्रेष्ठ होता है। जो सामान्य आकार से आंवले आकार का हो सकता है। इंडोनेशिया १२ मुखी का आकार छोटा होता है जिसे माला में प्रयोग किया जाता है।

फोटो १ में १२ मुखी गोल रुद्राक्ष को बताया है। जिसमे तीर की सहायता से इसके मुखो को चिन्हित किया है। चित्र १ में यह देखने में आता है की १२ मुखी रुद्राक्ष के कुछ मुख अत्यंत छोटे है। अगर इसे ठीक से देखा नहीं जाये या यह अन्य मुखो से अधिक चिपका हुआ हो तो इसे ११ मुखी रुद्राक्ष भी समझ लिया जा सकता है। इसकी जाँच के लिए X-ray रिपोर्ट की आवश्यकता होगी।

12 mukhi rudraksha benefits,12 mukhi rudraksha ke fayde,12 mukhi nepali rudraksha
फोटो १ : १२ मुखी गोल रुद्राक्ष

फोटो २ में १२ मुखी रुद्राक्ष का एक अलग ही रूप दिखाई देता है जो अंडाकार आकृति में है। जो गौरी-शंकर रुद्राक्ष की तरह नजर आ रहा है या शायद वही है और उसे १२ मुखी कह कर बेचा जा रहा हो। इसमें हमे दो रुद्राक्ष जुड़े हुए प्रतीत हो रहे है जिसमे दो छेद भी नजर आ रहे है। लेकिन इसे १२ मुखी रुद्राक्ष कहना सही नहीं होगा। पैसा कमाने के लिए दूकानदार कई प्रकार से रुद्राक्ष के साथ छेड़खानी करते है और फिर हमें उस चीज का लाभ नहीं होता। इसलिए जंहा तक हो सके इस तरह के रुद्राक्ष को सोच समझ कर ही ख़रीदे अन्यथा आपके पैसे बर्बाद हो सकते है।

12 mukhi rudraksha oval shape ,12 mukhi rudraksha sides,fake 12 mukhi rudraksha
फोटो २: १२ मुखी रुद्राक्ष की तरह दिखने वाला लेकिन १२ मुखी रुद्राक्ष नहीं है

बारह मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे(12 Mukhi Rudraksha Benefits)

12 मुखी रुद्राक्ष के कुछ फायदे जो लोगो को उनके अनुभव के आधार पर प्राप्त हुए है –

  • यह आपमें कुशलता और आत्म निर्भीकता बढ़ाता है।
  • १२ मुखी रुद्राक्ष धारण करने से मनुष्य को शासक का पद प्राप्त होता है।
  • यह शादी-विवाह सम्बन्धों की विवशताओं को दूर करता है।
  • इसको पहनने से शारीरिक एवं मानसिक पीड़ा मिट जाती है और जीवन निरोगी तथा सुखी व्यतीत होता है।
  • यह कुंडली में सूर्य को संतुलित करता है।
  • यह मंगल ग्रह को भी संतुलित करता है।
  • साहसिक कार्य करने वाले व्यक्तियों को इसे धारण करना चाहिए।
  • जो व्यक्ति पुलिस विभाग ,सेना आदि में है उन्हें भी 12 Mukhi Rudraksha धारण करना चाहिए।
  • यह आपकी आभा और व्यक्तित्व को काफी आकर्षक, गतिशील और आकर्षक बनाता है।
  • यह आपको सुंदरता, आकर्षण , एक प्राकृतिक चमक और जवान बनाये रखता है।
  • यह आपको आदतन हर चीज में विजयी बनाता है – चाहे वह शिक्षा हो, प्रतियोगिता हो, प्रेम हो, व्यापार हो, रिश्ते हों, परीक्षा हो या कुछ और।
  • यह आपके निर्णय लेने की क्षमता को सटीक और स्पष्टता प्रदान करने की क्षमता देता है।
  • यह आपको विपरीत परिस्थितियों से निपटने की समझ और शक्ति देता है।
  • यह आपमें लीडरशिप के गुणों को पैदा करता है, जो आपको एक उच्च पद प्राप्त करवाता है।
  • यह आपके व्यक्तित्व को प्रभावशाली बनता है जिससे दूसरे आपके बयानों को सुनते हैं और उन्हें स्वीकार करते हैं।
  • यह आपको अधिकारियों, बॉस, पिता और पिता तुल्य लोगो के साथ संबंध बनाने और बनाए रखने में मदद करता है।
  • यह सरकार के साथ संबंधों में सुधार करता है।
  • यह जीवन को भव्य, विलासी, आरामदायक और समृद्ध बनाता है।
  • यह जीवन में कुछ करने और एक निश्चित स्तर हासिल करने के जुनून को प्रज्वलित करता है।
  • यह एक स्वास्थ्य वर्धक है जो शरीर की उपचार क्षमता को बढ़ाता है और बीमारियों से बचाता है।

12 मुखी रुद्राक्ष किस लग्न के लोग पहन सकते है

12 Mukhi Rudraksha को वैसे तो सभी लग्न के लोग पहन सकते है। लेकिन यह उन लोगो को विशेष फायदा देता है जिनकी कुंडली में सूर्य कारक है। सिंह लग्न ,धनु लग्न ,मेष लग्न में सूर्य त्रिकोण का स्वामी होता है इस लग्नो के लिए विशेष लाभ देता है।

बारह मुखी रुद्राक्ष धारण करने का मंत्र(12 Mukhi Rudraksha Mantra)

12 मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र “औं क्रों श्रों रों नमः” है । ”ॐ ह्रीम् घृणिः सूर्यआदित्यः श्रीं” को भी 12 Mukhi Rudraksha Mantra के रूप में जाना जाता है। इसे धारण करने के लिए रुद्राक्ष की माला से १०८ बार जप करना होता है।

ॐ ह्रीं श्रौं घृणिः श्रीं । इति मंत्रः।

बारह मुखी रुद्राक्ष विनियोग मंत्र(12 Mukhi Rudraksha Viniyoga Mantra)

अस्य श्रीसूर्यमंत्रस्य भार्गव ऋषिः गायत्री छन्दः विश्वेश्वरो देवता ह्रीं बीजं श्रीं शक्ति: घृणिः कीलकं रुद्राक्षधारणार्थे जपे विनियोग:।

12 मुखी रुद्राक्ष न्यास मंत्र (12 Mukhi Rudraksha Nyas)

भार्गव ऋषिये नमः शिरषि।
गायत्री छन्दसे नमो मुखे।
विश्वेश्वरो देवताये नमो हृदि।
ह्रीं बीजाय नमो गुहे।
श्रीं शक्तये नमः पादयोः।

अथ करन्यासः(12 Mukhi Rudraksha Karnyas Mantra)

ॐ ॐ श्रीं अंगुष्ठाभ्याम नमः।
ॐ ह्रीं श्रीं तर्जनीभ्याम स्वाहाः।
ॐ श्रौं श्रीं मध्याभ्याम वषट।
ॐ ह्रौं श्रींअनामिकाभ्याम हुम्।
ॐ घृणि श्रीं कनिष्ठाभ्याम वौषट।
ॐ ह्रीं श्रौं घृणि:श्रीं करतल कर पुष्ठाभ्यां फट।

अथाङ्ग न्यासः ( 12 Mukhi Rudraksha Nyas Mantra)

ॐ ॐ श्रीं हृदयाय नमः।
ॐ ह्रीं श्रीं शिरसे स्वाहाः।
ॐ श्रौं श्रीं शिखाये वषट।
ॐ ह्रीं श्रीं घृणि कवचाय हूँ।
ॐ घृणि श्री नेत्रत्रयाय वौषट।
ॐ ह्रीं श्रौं घृणिः श्रीं अस्त्राय फट।

अथ ध्यानम (12 Mukhi Rudraksha Dhyanam)

शौणामभोरुहसंस्थित त्रिनयनं वेदत्रयी विग्रहं।
दानामभोजयुगाभयानी दधतम हस्तेः प्रवाल प्रथम।।
केयुरङ्गद् कङ्कण दय्धरं कर्णेल्रसत्कुण्डलम।
लोकोउत्पतिविनाशपालनकरं सूर्य गुणाघ्रीं भजेत।।

बारह मुखी रुद्राक्ष किस ग्रह के लिए है(12 Mukhi Rudraksha Planet)

१२ मुखी रुद्राक्ष को सूर्य ग्रह के लिए पहना जाता है। अगर आपकी कुंडली में सूर्य कमजोर हो और वह ६,८,१२ जैसे भाव में बैठा हो और इस स्थिति में माणिक रत्न धारण नहीं किया जा रहा हो तो १२ मुखी रुद्राक्ष को गले में धारण करना चाहिए। यह कुंडली में पड़ने वाले सूर्य के बुरे प्रभाव को कम करके शुभ परिणाम को प्राप्त करता है।

अंक ज्योतिष के अनुसार १२ मुखी रुद्राक्ष का मूलांक ३ होता है इसलिए इसे सूर्य के साथ -साथ मंगल ग्रह के लिए भी धारण किया जाता है। विशेष रूप से जप सूर्य – मंगल की युति हो।वैसे तीन मुखी रुद्राक्ष को मंगल के लिए धारण किया जाता है ।

बारह मुखी रुद्राक्ष प्रदीप मिश्रा जी(12 Mukhi rudraksha By Pradeep Mishra)

शिवपुराण कथावाचक पंडित प्रदीप मिश्रा जी (सीहोर वाले ) ने अपनी कथा में 12 मुखी रुद्राक्ष के बारे में बताया है की –

“यह भी ११ मुखी की तरह रोग मुक्ति और ब्लड प्रेशर की समस्या के लिए धरण किया जाता है। इसका मंत्र है क्रों श्रों रों नमः इस मन्त्र का जाप करके जो व्यक्ति यह १२ मुखी रुद्राक्ष धारण करता है उसका ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है।”

बारह मुखी रुद्राक्ष की कीमत(12 Mukhi Rudraksha Price)

12 मुखी नेपाली रुद्राक्ष सामान्य आकार का आपको 7000 रुपये के आस पास मिल जायेगा। कुछ बेहतर गुणवत्ता का 12 Mukhi Rudraksha (collector beads) जो नेपाली बड़े आकार आंवला आकार का होता है उनकी कीमत 12000 रुपये के आस पास होती है।हो सकता है इससे कम में भी आपको मिल जाये पर आप नेपाली १२ मुखी रुद्राक्ष ही लीजियेगा। नेपाली रुद्राक्ष में कीमत के अनुसार Size में मिलीमीटर का फर्क आ जाता है लेकिन लाभ समान होते है।

आवश्यक जानकारी :12 मुखी रुद्राक्ष के बारे में जानकारी विभिन्न पुस्तकों और अनुभव के आधार पर प्रदान की गयी है। हम पाठको से अनुरोध करते है की रुद्राक्ष के तथ्यों पर अपना विवेक का प्रयोग अवश्य करे।

2 टिप्पणी

टिप्पणियाँ बंद हैं।