14 मुखी रुद्राक्ष के फायदे | 14 Mukhi Rudraksha Benefits in Hindi

14 Mukhi Rudraksha:१४ मुखी रुद्राक्ष भगवान हनुमान का स्वरुप माना गया है। इसे जो धारण करता है उसकी पूजा और प्रशंसा सारे देव करते है। यह रुद्राक्ष बलशाली भगवान हनुमान का प्रतीक होने की वजह से ,भूत ,पिशाच ,डाकिनी ,शाकिनी ,समंध आदि से रक्षा करता है। बल और हिम्मत बढ़ाता है। सकत काल में संरक्षक होता है। डर को दूर भगाता है।

पुराणों में इसके विषय में कहा गया है कि यह चौदह विद्या, चौदह मनु, चौदह लोक, चौदह इंद्र का साक्षात्‌ देव स्वरूप है। चौदह मुख वाले रुद्राक्ष को वृक्ष से उत्पन्न सर्वदेवमय, विशिष्ट व दुर्लभ रुद्राक्ष माना जाता है।14 मुखी रुद्राक्ष हानि, दुर्घटना, रोग एवं चिन्ता से मुक्त रखकर साधक को सुरक्षा-समृद्धि देना इसका विशेष गुण है।

यह अति दुर्लभ रुद्राक्ष है।पौराणिक मान्यता है की भगवान शिव स्वयं इस रुद्राक्ष को धारण करते थे। इस रुद्राक्ष को साक्षात् शिव के समान बताया गया है । इस रुद्राक्ष को मान-सम्मान तथा आध्यात्मिकता के साथ-साथ भौतिकता को देने वाला बताया गया है। ग्रहस्त व्यक्तियों के साथ -साथ साधु ,संत ,महामंडलेश्वर भी इसे धारण करते है। 14 Mukhi Rudraksha को जिस मनोकामना से आप इसे धारण कर रहे हो आपको उसका वैसा ही फल मिलेगा यानि आपकी मनोकामनाओ को पूर्ण करने में सहायक होगा।

इसे “देव मणि” के नाम से भी जाना जाता है। एक पौराणिक मान्यता के अनुसार सभी अलग-अलग मुखी रुद्राक्ष भगवान शिव के नेत्रों से गिरे आंसुओं से उत्पन्न हुए हैं लेकिन 14 मुखी रुद्राक्ष की उत्पत्ति भगवान शिव के तीसरे नेत्र से गिरे आंसुओं से हुई है इसलिए श्रेष्ठ स्थान रखता है।१४ मुखी रुद्राक्ष तृतीय नेत्र चक्र के साथ काम करता है और मानसिक क्षमताओं, अंतर्ज्ञान, ज्ञान और पूर्वानुमान को बढ़ाता है।

14 मुखी रुद्राक्ष कैसा होता है(how to identify 14 mukhi rudraksha)

14 मुखी रुद्राक्ष की पहचान यह है की इसमें 14 धारियाँ बनी होती है जिससे इसमें 14 मुख नजर आते है। यह गोल या अंडाकार आकार का हो सकता है। प्रायः 14 मुखी रुद्राक्ष बहुत दुर्लभ होता है। यह आंवले आकार का हो सकता है। इंडोनेशिया १४ मुखी रुद्राक्ष का उपयोग जप की माला बनाने में किया जाता है क्योंकि नेपाल के १४ मुखी रुद्राक्ष की तुलना में इसका आकर छोटा होता है।

फोटो १ में आप 14 मुखी नेपाल का रुद्राक्ष देख रहे है जिसे कलेक्टर बीड(collector rudraksha beads) भी कहा जाता है। जिसमे आप आसानी से इसके 14 मुखो और लकीरो को देख सकते है। यह रुद्राक्ष का ऊपरी हिस्सा है ।

14 mukhi rudraksha benefits in hindi ,14 mukhi rudraksha ke fayde
Photo 1 :ऊपरी हिस्सा

फोटो 2 में आप 14 मुखी नेपाली रुद्राक्ष के निचले हिस्से को देख रहे है। इसमें भी स्पष्ट लकीरे और मुख नजर आ रहे है। यह भी कलेक्टर बीड्स है।

14 mukhi rudraksha nepal ,14 mukhi collector bead
Photo 2: निचला हिस्सा

फोटो ३ भी १४ मुखी रुद्राक्ष का कलेक्टर बीड है जिसमे स्पष्ट मुख और लकीरे नजर आ रही है लेकिन इसमें दो मुख बहुत ही नजदीक है और पतले है जिसे हमने तीर की सहायता से बताया है। अगर यह और नजदीक हो जाते तो शायद यह १३ मुखी रुद्राक्ष बन जाता। इसलिए रुद्राक्ष की ठीक से जाँच परख आवश्यक है।

14 mukhi rudraksha nepal benefits,14 mukhi rudraksha kaisa hota hai
Photo 3 :निचे की ओर दो मुख अत्यंत नजदीक

14 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे(14 Mukhi Rudraksha Benefits)

14 मुखी रुद्राक्ष के कुछ लाभ जो सामान्य रूप से लोगो के अनुभव के आधार पर हमें प्राप्त हुए-

  1. चौदह मुखी रुद्राक्ष शनि और मंगल ग्रह से बनने वाले दोषो को दूर करता है।
  2. इसमें भगवान शिव और हनुमान दोनों के लिए धारण किया जाता है।
  3. यह शनि और मंगल ग्रहों के प्रतिकूल प्रभाव को कम करता है।
  4. यह मंगल दोष के दुष्प्रभाव को दूर करता है।
  5. यह आपको शनि, साढ़े साती या शनि दशा के कठिन समय में रक्षा करता है।
  6. दो महान ग्रहों द्वारा शासित होने के कारण यह कुछ हासिल करने की इच्छा को बढ़ाता है। लक्ष्य प्राप्त करने की शक्ति देता है प्रयास करवाता है।
  7. यह आध्यात्मिक क्षेत्र में तीसरे नेत्र के चक्र को सक्रिय करता है।
  8. यह आपको सहज और पूर्वानुमान बनाता है।
  9. यह जुनून और धैर्य के बीच संतुलन बनाता है।
  10. इसने जीवन में कुछ करने और एक निश्चित स्तर हासिल करने के जुनून और इच्छाशक्ति को जगाया।
  11. यह आपको बुद्धिमान, बौद्धिक और मानसिक रूप से स्पष्ट और निर्णायक बनाता है।
  12. घबराहट को दूर कर यह आपको काफी आत्मविश्वासी बनाता है।
  13. यह आपमें अनजान भय को दूर करता है और आपके पराक्रम को बढ़ाता है।
  14. यह व्यवसायियों के लिए एक विशेष यन्त्र है जिससे वे भारी मुनाफा और रिकॉर्ड तोड़ सफलता अर्जित कर सकते हैं।
  15. यह निरंतर वृद्धि के साथ करियर में स्थिरता प्रदान करता है।
  16. यह एक धन जनरेटर है जो आपको आय के कई स्रोत उत्पन्न करने में मदद करता है और आपके धन, समृद्धि और संपत्ति को बढ़ाता है।
  17. यह आपको जीवन में आने वाली किसी भी प्रकार की स्थिति से निपटने के लिए आवश्यक शक्ति और परिपक्वता प्रदान करता है।
  18. यह आपके लिए सभी प्रयासों में सफलता सुनिश्चित करता है।
  19. यह सद्गुणों को बढ़ाता है और जीवन में समग्र अच्छी घटनाओं को सुनिश्चित करता है।
  20. यह कर्म बंधनों को काटता है तथा वर्तमान के प्रति जागरूक करता है और भविष्य को बेहतर बनाता है।

14 मुखी रुद्राक्ष किस लग्न के लोग पहन सकते है

१४ मुखी रुद्राक्ष को किसी भी लग्न के व्यक्ति पहन सकते है लेकिन जिनका लग्न कुम्भ ,मकर ,मेष तथा वृश्चिक है और लग्न या सप्तम में शनि या मंगल हो या इनकी युति हो तो उन्हें विशेष लाभ देता है।

14 मुखी रुद्राक्ष धारण करने का मंत्र(14 Mukhi Rudraksha Mantra)

14 मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र “ॐ नमः” है । ”ॐ नमः शिवाय” को भी 14 Mukhi Rudraksha Mantra के रूप में जप कर सकते है। इसे धारण करने के लिए रुद्राक्ष की माला से १०८ बार जप करना होता है।

ॐ औं ह स्फ़्रै खब्फ़्रै हस्त्रौ हसव्फ़्रे। इति मन्त्रः।

14 मुखी रुद्राक्ष विनियोग मंत्र(14 Mukhi Rudraksha Viniyoga Mantra)

अस्य श्री हनुमन्मन्त्रस्य रामचंद्र ऋषिः जगती छन्दः श्रीहनुमान देवता औं बीजं हस्फ़्रै शक्ति: अभीष्ट सिद्ध्यर्थे जपे विनियोग:।

14 मुखी रुद्राक्ष न्यास मंत्र (14 Mukhi Rudraksha Nyas Mantra)

रामचंद्र ऋषिये नमः शिरषि।
जगती छन्दसे नमो मुखे।
हनुमान देवताये नमो हृदि।
औं बीजाय नमो गुहो।
हस्फ़्रै शक्तये नमः पादयो:।

अथ करन्यासः(14 Mukhi Rudraksha Karnyas Mantra)

ॐ ॐ अंगुष्ठाभ्याम नमः।
ॐ औंम तर्जनीभ्याम स्वाहा:।
ॐ हस्फ़्रै मध्याभ्याम वषट्।
ॐ खब्फ़्रै अनामिकाभ्याम हुम्।
ॐ हस्त्रौ कनिष्ठाभ्याम वौषट।
ॐ ॐ हन्सवफ़्रे करतलकर पुष्ठाभ्यां फट।

अथाङ्ग न्यासः ( 14 Mukhi Rudraksha Athang Nyas Mantra)

ॐ ॐ हृदयाय नमः।
ॐ औंम शिरसे स्वाहा।
ॐ हस्फ़्रै शिखाये वषट्।
ॐ खब्फ़्रै कवचाय हूँ।
ॐ हस्त्रौ नेत्रत्रयाय वौषट।
ॐ हस्खस्फ़्रौ अस्त्राय फट।

अथ ध्यानम (14 Mukhi Rudraksha Dhyan Mantra)

उघ मार्तण्ड कोटिप्रकट रूचियुतं चारुवीरासनस्थम।
मोज्जिय्य यज्ञोपविता भरण रूचिशिखा शोभितं कुण्डलाभ्यां।
भक्तानाभिष्ट दान प्रवणमनुदिनं वेद नाद प्रमोदम।
ध्यायेदेवम विधेयं प्लवगकुलपति गोष्पदी भूत वादिम्।

14 मुखी रुद्राक्ष किस ग्रह के लिए है(14 Mukhi Rudraksha Planet)

चौदह मुखी रुद्राक्ष शनि और मंगल ग्रह के लिए एक संयुक्त रुद्राक्ष है। अगर शनि और मंगल के कारण कुंडली में कही पर भी दोष उत्त्पन्न हो रहा हो तो इस रुद्राक्ष को धारण करना चाहिए।

14 मुखी रुद्राक्ष प्रदीप मिश्रा जी(14 Mukhi rudraksha By Pradeep Mishra)

शिवपुराण कथावाचक पंडित प्रदीप मिश्रा जी (सीहोर वाले ) ने अपनी कथा में 14 मुखी रुद्राक्ष के बारे में बताया है की –

“यह विद्या वैभव को देता है किसी एग्जाम में बैठ रहे हो पास नहीं हो रहे हो तो १४ मुखी रुद्राक्ष का मंत्र बोल कर १४ मुखी रुद्राक्ष को पहन कर कॉम्पिटिशन एग्जाम में बैठ सकते है उस मंत्र का नाम है ॐ नमः।”

14 मुखी रुद्राक्ष की कीमत(14 Mukhi Rudraksha Price)

१४ मुखी नेपाली रुद्राक्ष सामान्य आकार का आपको 20000 रुपये के आस-पास मिल जायेगा। कुछ बेहतर गुणवत्ता का 14 Mukhi Rudraksha (collector beads) जो नेपाली बड़े आकार आकार का होता है उनकी कीमत 50000 रुपये के आस पास होती है।हो सकता है इससे कम में भी आपको मिल जाये पर आप नेपाली १4 मुखी रुद्राक्ष ही लीजियेगा। नेपाली रुद्राक्ष में कीमत के अनुसार Size में मिलीमीटर का फर्क आ जाता है लेकिन लाभ समान होते है।

आवश्यक जानकारी :14 मुखी रुद्राक्ष के बारे में जानकारी विभिन्न पुस्तकों और अनुभव के आधार पर प्रदान की गयी है। हम पाठको से अनुरोध करते है की रुद्राक्ष के तथ्यों पर अपना विवेक का प्रयोग अवश्य करे।

FAQ:

14 मुखी रुद्राक्ष किस राशि के लोग पहन सकते है

१४ मुखी रुद्राक्ष को मेष ,वृश्चिक ,कुम्भ ,मकर राशि के जातक चंद्र कुंडली के अनुसार पहन सकते है।