नौ मुखी रुद्राक्ष के फायदे | 9 Mukhi Rudraksha Benefits in Hindi

9 Mukhi Rudraksha Benefits: नौ मुखी रुद्राक्ष भैरव नाम से प्रसिद्ध है। इसे प्रत्यक्ष शिव स्वरुप माना गया है। नौ मुखी रुद्राक्ष की स्वर्ग में भी इन्द्र के समान पूजा होती है। ऐश्वर्य,धनसम्पत्ति और मान सम्मान का यह स्वामी है। यह ऋषि कपिल से भी जोड़ा गया है। नौ मुखी रुद्राक्ष को नवदुर्गा (देवी दुर्गा के नौ रूप), नौ ग्रह, नवनाथ, नवधा भक्ति (नौ प्रकार की भक्ति), नवनिधि और भगवान यम के प्रतिक के तौर पर भी देखा जाता है ।इसे एक महान रक्षक यानि रक्षा कवच के रूप में देखा जाता है जो किसी को दुर्घटना और अशुभ घटनाओं से बचाता है।

नौ मुखी रुद्राक्ष को नवशक्ति सम्पन्न माना जाता है। दुर्गा जी के सभी नव-अवतारों की पूर्ण शक्तियाँ इसमें समायी होती हैं, इसलिये यह पहनने वाले को अलौकिक-दिव्य शक्तियाँ भी देता है। वैसे तो सभी रुद्राक्ष शिव-शक्ति के रूप हैं, किन्तु नौ मुख वाले रुद्राक्ष देवी माता के उपासकों के लिये विशेष हितकर होता है, इसको धारण करने से वीरता, धीरता, साहस, कर्मठता, पराक्रम, सहनशीलता तथा यश की वृद्धि होती है।

यह नौ मुखी रुद्राक्ष पहनने वाले को नवरात्रों के व्रत के समान पुण्य देता है तथा पति-पत्नी, पिता-पुत्र के मतभेदों को दूर कर तन-मन से सदा पवित्र रखता है। 9 Mukhi Rudraksha के देवता भैरव व यमराज हैं। इसको धारण करने से यमराज का भय नहीं रहता है तथा इसको पहनने वाला सदा सबका हित-चिंतक होता है। यह पहनने वाले के पक्ष में निर्णय करवाता है। यह माँ की भक्ति में रुचि को बनाये रखता है, जिससे मानव सद्‌गति को प्राप्त होता है।

निर्वाण मंत्रो का जाप अगर ९ मुखी रुद्राक्ष की माला से करते है तो उसे सर्व श्रेष्ठ गति प्राप्त होती है ऐसा शास्त्रों में लिखा गया है।

नौ मुखी रुद्राक्ष कैसा होता है(how to identify 9 mukhi rudraksha)

नौ मुखी रुद्राक्ष में 9 धारियाँ बनी होती है।यह आकार में यह गोल होता है। यह इंडोनेशिया ,नेपाल और भारत में पाया जाता है। इंडोनेशिया ९ mukhi rudraksha का आकार छोटा होता है ,उससे बड़ा भारत का और फिर नेपाली 9 मुखी रुद्राक्ष का आकार होता है।

9-Mukhi-Rudraksha-benefits-in-hindi,9 Mukhi Rudraksha ke fayde
नौ मुखी नेपाली रुद्राक्ष

नौ मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे(9 Mukhi Rudraksha Benefits)

नौ मुखी रुद्राक्ष के कुछ अनुभव जो लोगो को प्राप्त हुए-

  • यह केतु ग्रह के दोषो को शांत करता है।
  • यह नौ ग्रहों को संतुलित करता है।
  • यह सहस्रार चक्र को सक्रिय करता है।
  • यह पापों और बुरे कर्मों को कम करता है।
  • यह भौतिक और आध्यात्मिक लाभ प्राप्त करने में मदद करता है।
  • यह व्यक्ति को निडर, बहादुर, साहसी, दृढ़ और समझदार बनाता है।
  • यह एक शक्तिशाली और प्रभावशाली व्यक्तित्व देता है।
  • यह शरीर में ऊर्जा देने के साथ साथ उसे संतुलित भी करता है।
  • यह व्यक्ति में रचनात्मक गुणों को बेहतर करता है।
  • यह जीवन और मृत्यु के भय को दूर करता है और एक स्वतंत्र मानसिकता प्रदान करता है।
  • यह एकाग्रता विकसित करता है और विघ्नो को दूर करता है।
  • यह आपकी इच्छाओ और लक्ष्यों को पूर्ण करने में सहयोग करता है।
  • यह आपको महत्वाकांक्षी और आशावादी बनाता है।
  • यह आपको समाज में बेहतर व्यक्तित्व प्रदान करता है।
  • यह आपको आदर सम्मान प्राप्त करने में मदद करवाता है।
  • यह दुर्घटनाओं और बुरी घटनाओं को रोकता है।
  • यह लोगों के साथ बेहतर सम्बन्ध बनाता है।

नौ मुखी रुद्राक्ष किस लग्न के लोग पहन सकते है

9 मुखी रुद्राक्ष को कोई भी लग्न का व्यक्ति धारण कर सकता है। लेकिन जिस लग्न में केतु अशुभ फल दे रहा हो या केतु का रत्न नहीं पहना जा सकता ऐसी स्थिति में ९ मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए।

नौ मुखी रुद्राक्ष धारण करने का मंत्र(9 Mukhi Rudraksha Mantra)

नौ मुखी रुद्राक्ष को धारण करने का मंत्र “ॐ ह्रीं हूं नमः” है । इसे धारण करने के लिए रुद्राक्ष की माला से १०८ बार जप करना होता है।

ॐ ह्रीं वँ यं रं लँ। इति मंत्रः।

नौ मुखी रुद्राक्ष विनियोग मंत्र(9 Mukhi Rudraksha Viniyoga Mantra)

अस्य श्री भैरवमंत्रस्य नारद ऋषिः गायत्रीछन्दः भैरवादेवता वँ बीजं ह्रीं शक्तिः अभीष्टसिद्ध्यर्थे जपे विनियोगः। नारद ऋषये नमः शिरसि ,गायत्रीछन्दसे नमो मुखे,भैरव देवताये नमो हृदि ,वँ बीजाय नमो गुह्यं। ह्रीं शक्तये नमो पादयोः।

अथ करन्यासः(9 Mukhi Rudraksha Karnyas Mantra)

ॐ ॐ अंगुष्ठाभ्यां नमः।
ॐ ह्रीं तर्जनीभ्यां स्वाहा।
ॐ वँ मध्यमाभ्यां वषट।
ॐ यं अनामिकाभ्यां हुं।
ॐ रं कनिष्ठिकाभ्यां वौषट।
ॐ लँ करतलकरपृष्ठाभ्यां फट ।।

अथाङ्ग न्यासः ( 9 Mukhi Rudraksha Nyas Mantra)

ॐ ॐ हृदयाय नमः। ॐ ह्रीं शिरसे स्वाहा। ॐ वँ शिखाए वषट।
ॐ यं कवचाय हुं। ॐ रं नेत्रत्रयाय वौषट। ॐ लँ अस्त्राये फट।।

अथ ध्यानम (9 Mukhi Rudraksha Dhyanam)

कपालहस्तं धूलगोपवीत कृष्णच्छविंदण्डधरं त्रिनेत्रं।
अचिन्त्य माघम मनुपानमत्तं हृदि स्मरेदभैरवमिष्टदं नृणाम।।

नौ मुखी रुद्राक्ष किस ग्रह के लिए है(9 Mukhi Rudraksha Planet)

नौ मुखी रुद्राक्ष को केतु ग्रह के लिए धारण करा जाता है। यह कुंडली में केतु ग्रह को संतुलित करता है।

नौ मुखी रुद्राक्ष प्रदीप मिश्रा जी(9 Mukhi rudraksha By Pradeep Mishra)

शिवपुराण कथावाचक पंडित प्रदीप मिश्रा जी (सीहोर वाले ) ने अपनी कथा में बताया है की –

“नौ मुखी रुद्राक्ष महाराज वंश को बढ़ाता है जिस नारी का गर्भ नहीं ठहर रहा हो,संतान नहीं हो रही हो सारे इलाज करवा लिए हो डॉक्टर बोल रहा है की हर तरह से ठीक है फिर भी संतान नहीं हो रही तो नौ मुखी रुद्राक्ष को गले में धारण कर ले पति और पत्नी दोनों। नौ मुखी रुद्राक्ष एक और ले कर आये जिसको चाँदी की कटोरी में या चाँदी का कोई छल्ला हो तार हो जिसे कटोरी में रख कर उसमे पानी भर कर नौ मुखी रुद्राक्ष डाल दे उस पानी को सोने से पहले पीना चालू कर दे। चाँदी का पानी और नौ मुखी रुद्राक्ष का पानी पीना चालू कर दे नारी का गर्भ ठहर जाता है महाराज।”

नौ मुखी रुद्राक्ष की कीमत(9 Mukhi Rudraksha Price)

9 मुखी नेपाली रुद्राक्ष माध्यम आकर का आपको 4000 रुपये के आस पास मिल जायेगा। कुछ बेहतर गुणवत्ता का 8 मुखी रुद्राक्ष (collector beads) जो नेपाली बड़े आकार का होता है उनकी कीमत ६०००-९००० रुपये के आस पास होती है । इंडोनेशिया ९ मुखी रुद्राक्ष ४०० रुपये के आस पास होता है इसकी माला 2500 रुपये के आस पास होती हैं।

आवश्यक जानकारी :९ मुखी रुद्राक्ष के बारे में जानकारी विभिन्न पुस्तकों और अनुभव के आधार पर प्रदान की गयी है। हम पाठको से अनुरोध करते है की रुद्राक्ष के तथ्यों पर अपना विवेक का प्रयोग अवश्य करे।

यह भी जाने :कर्क राशि के जातक कैसे होते है

यह भी जाने :चार मुखी रुद्राक्ष को किस लिए धारण करे ?

1 टिप्पणी

टिप्पणियाँ बंद हैं।